wo mahfil me nhi khulta , rahnai me khulta hai

sad boy writing

wo mahfil me nhi khulta , rahnai me khulta hai
smandar kitna gahara hai,gahrai me khulta hai

वो महफ़िल में नही खुलता , रहने में खुलता है
समंदर कितना गहरा है,गहराई में खुलता है

Loved By Other People