kache ghar wala mera gaon

gaon shayari

कागज की कश्ती थी पानी का किनारा था !
खेलने की मस्ती थी दिल ये आवारा था !!
कहाँ आ गए इस अजनबी शहर (दिल्ली) में हम !
वो कच्चे घर वाला मेरा  गांव  कितना प्यारा था !

Kagaz ki kshti thi, Pani ka kinara tha !
Khelne ki masti thi, Dil yeh awara tha !!
kaha aa gye is ajnabi shahar (Delhi) me !
wo kache ghar wala mera gaon kitna pyara tha !!

Loved By Other People