Bhojh Ento Ka bada tho Saheb

मजबूर पिता द्वारा कहे गये भावुक शब्द :
बोझ ईंटों का और बढ़ा दो साहब…
मेरे बच्चे ने आज एक खिलौने की फरमाईश की है.

father shayari

 

Loved By Other People