बरसात तो वो गांव के कच्चे घरों की छत्तों पे हुआ थी

sab-bewafa-rain-shayari-sad-shayari-village-shayari

बरसात तो वो गांव के कच्चे घरों की छत्तों  पे हुआ  थी
यहां शहरों में तो बस ऊँची इमारतों से बस  पानी  गिरता है

बरसात में गांव में मिट्टी  की खुशबू आया करती थी
यहां शहरों  गंदे नलो की भदबू  ही  आती है

बरसात तो वो पानी से भरी कच्ची गलियों में होती थी
यहां शहर में तो बस पक्की सड़कें सुखी ही नजर आती है

बरसात तो वो गांव में पानी में एक साथ खेलने में होती थी

ऐ माँ

यहां शहर में तो बस घर के शीशों से पानी की बुँदे ही नजर आती है

Barsaat to wo ghav ke kachhe gharo ki chatto pe hua karti thi

Yha shaharo me to bas unchi imarato se bas pani hi girta hai

Basaat me  ghav me mitti ke khushbhoo hua karti thi

Yha shaharo me to bas gandhe nalo ki badhubhu hi aati hai

Barsaat to wo pani se bhari kachhi galiyo me hoti thi

Yhaa shahar me to bas pakki sadke shukhi hi najar aati hai

 

Barsaat to wo ghav me pani me ek sath khelne me hoti thi

Aye maa

Yha shahar me to bas ghar ke shisho se pani ki bunde hi najar aati hai

 

Loved By Other People